jul

रिलीज से पहले ही बंगाली फिल्म ‘जुल्फिकार’ विवादों मे आ गई हैं. फिल्म पर मुस्लिम समुदाय की भावनाओं को आहत करने का आरोप लग रहा हैं. बंगाल के मुसलमानों ने फिल्म का विरोध करना शुरू कर दिया हैं.

बंगाला भाषा की ब्लाक बस्टर फिल्म ‘जुल्फीकार‘ दूर्गा पूजा में रिलीज होने वाली थी लेकिन फिल्म में मुस्लिम समुदाय के लोगों को कथित रूप से देश के साउथ-वेस्ट इलाके के रहने वालें मुसलमानों को निशाना बनाते हुए उनकी छवि को गलत रूप से प्रस्तुत किया गया हैं.

फिल्म के ट्रेलर सामने आने के बाद बंगाली मुसलमानों ने फिल्म से विवादस्पद सीन को हटाए बिना फिल्म को चलने नहीं देने की धमकी देते हुए विरोध शुरू कर दिया हैं. फिल्म के निर्माता और निदेशक सर्जित मुखर्जी द्वारा निर्मित हैं. जिन्हें मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का नजदीकी माना जाता हैं.

इस बारें में आल बंगाली माइनारिटी यूथ फेडरेशन का कहना है कि फिल्म के अधिकांश संवाद एवं सिन मुसलमान और इस्लाम की छवि को धक्का पहुंचाने वाले हैं. इसे नहीं हटाने पर फिल्म नहीं चलने दी जाएगी. स्टेट माइनरिटी कमिशन के चेयरमैन इमतीयाज अली शाह के अनुसार बड़ते विवाद के कारण मुख्यमंत्री खुद इस मसले को देख रही हैं.

मुख्यमंत्री ने फिल्म से विवादास्पाद सिन को काटने के लिए कहा हैं. साथ ही दोनों पक्षों में सुलह कराने का जिम्मा ज्वाइंट पुलिस कमिश्नर इंटेलीजेंस दिलीप बंधोपाध्याय को सौंपा गया हैं..


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें