amit

गुजरात के दलितों ने अब बॉलीवुड अभिनेता अमिताभ बच्चन को उनके गुजरात टूरिज़म के लिए किये गए विज्ञापन के जरिये निशाने पर लिया हैं. ऊना दलित अत्याचार लड़त समिति (UDALS) ने अमिताभ के  ‘खुशबू गुजरात की’ के बदले ‘बदबू गुजरात की’ अभियान चलाने का फैसला किया हैं.

UDALS के संयोजक जिग्नेश मेवानी के अनुसार  13 सितंबर को दलितों की एक पब्लिक मीटिंग होंगी जिसमे हजारों दलित परिवार अमिताभ बच्चन को पोस्टकार्ड्स के जरिये आमंत्रित करेंगे. जिसमे उन्हें लिखा जाएगा कि उन्हें गुजरात में कुछ दिन बिताकर ‘बदबू गुजरात की’ को भी महसूस करना चाहिए.’

और पढ़े -   गौ-आतंकियों से स्वरा भास्कर ने पूछा सवाल - क्या हिंदू धर्म इंसानों का गला काटना सिखाता है ?

गौरतलब रहें कि उना में भगवा संगठन के कार्यकर्ताओं के द्वारा कथित गौरक्षा के नाम पर दलित युवको के बेदर्दी से पिटाई की गई थी. जिसके बाद दलितों ने आंदोलन कर राज्य में मरे पशुओं के शव उठाने से इंकार कर दिया हैं.

इसी आन्दोलन की वजह से गुजरात में मरे पशुओं के निपटान की समस्या पैदा हो गई हैं.  इसकी वजह से कई जगहों पर लोगों को भयंकर बदबू का सामना करना पड़ रहा है.

और पढ़े -   हर्लेडेविडसन पर गाय के चमड़े से बने सामान बेचने का आरोप लगाने वाले एजाज खान को प्रधानमंत्री कार्यालय से मिला जवाब

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE