an insightific man

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर बनी फिल्म ‘एन इनसिग्नीफिकेंट मैन’ पर रोक लगाने की मांग को देश की सर्व्वोच अदालत ने खारिज कर दिया.

प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्र के नेतृत्व वाली एक पीठ ने कहा कि बोलने और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता अलंघनीय है और इसमें सामान्य तौर पर हस्तक्षेप नहीं होना चाहिए.

पीठ ने कहा, अदालतों को ऐसी स्थितियों में किसी तरह का आदेश पारित करने में अत्यंत सचेत रहना चाहिए और एक रचनात्मक व्यक्ति को कोई नाटक, दर्शन या किसी तरह की पुस्तक लिखने या उसे सेलुलायड या थिएटर में पेश करने देना चाहिए.

ये याचिका 2013 में केजरीवाल पर कथित रुप से स्याही फेंकने वाले नचिकेता वाल्हेकर ने दायर की थी. उन्होंने अपनी याचिका में कहा कि उन्हें इसमें मामले के एक दोषी के तौर पर दिखाया गया है जबकि मामले की सुनवाई दिल्ली की एक अदालत में अभी भी लंबित है.

याचिकाकर्ता ने कहा कि फिल्म में उनकी छवि धूमिल की है और अदालत को फिल्म निर्माताओं को निर्देश देना चाहिए कि वे एक उद्घोषणा दें कि स्याही फेंकने के मामले की सुनवाई अभी लंबित है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE