देश भर में भगवा आतंकियों द्वारा मुस्लिमों को चिन्हित कर की जा रही हत्या के विरोध में कई सामाजिक कार्यकर्ता, फिल्म जगत से जुड़े लोग और युवाओं ने राष्ट्रीय राजधानी समेत देश के 11 शहरों में विरोध-प्रदर्शन किया. जिसमे हजारों की तादाद में लोगों ने हिस्सा लिया.

‘नॉट इन माई नेम’ के तहत दिल्ली के जंतर-मंतर पर आयोजित प्रदर्शन में दादरी हत्याकांड में बीफ का आरोप लगाकर पीट-पीट कर मार डाले गए मोहम्मद अखलाक के परिवार वाले भी मौजूद थे. विरोध-प्रदर्शन में शबाना आजमी, मेधा पाटकर, कोंकणा सेन शर्मा, रजत कपूर, रनवीर शौरी, कलकी कोएचलिन सहित अन्य सामाजिक कार्यकर्ताओं ने कहा कि देश में सांप्रदायिक विभाजन और भीड़ द्वारा हो रही हत्याओं को रोकना होगा.

और पढ़े -   बिहार के बाढ़ पीड़ितों के लिए आगे आए आमिर, लोगों से की ये मार्मिक अपील

इस दौरान मेधा पाटकर ने कहा कि कट्टरपंथी देश के नागरिकों को बांट रहे हैं. हमें इस तरह के विरोध-प्रदर्शन करते रहने होंगे, जिससे कि इस तरह की प्रवृत्ति के खिलाफ दबाव बनाया जा सके. वहीँ शबाना ने कहा कि हम भीड़ द्वारा पीटपीटकर हत्या के खिलाफ कानून की मांग कर रहे हैं। मैं इस देश की गौरवमयी नागरिक हूं. यह प्रदर्शन जो पूरे देश में हो रहा है वह विशेष रूप से जुनैद के समर्थन में नहीं है. यह केवल अकेले जुनैद के लिए नहीं… भीड द्वारा पीटने के सभी तरीकों के लिए है.

और पढ़े -   हैदराबाद क्रिकेट संघ लोढ़ा समिति के सुझावों पर नहीं कर रहा अमल: अजहरुद्दीन

फेसबुक पर यह अभियान ‘नॉट इन माई नेम’ शुरू करने वाली शबा दीवान ने कहा कि यह विरोध-प्रदर्शन दलितों और मुस्लिमों के खिलाफ लगातार हो रही हिंसा के खिलाफ है. सरकारों ने अबतक कुछ नहीं किया है और चारों ओर इसे लेकर चुप्पी छाई हुई है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE