सैफ अली खान ने अपने बेटे तैमूर अली खान के नाम को लेकर हुए विवाद को एक बार फिर से अपनी चुप्पी तोड़ते हुए कहा कि वो इस्लामोफोबिया से पूरी तरह परिचित हैं. साथ ही उन्होने कहा कि अशोका भी एक हिंसक नाम है उसी तरह एलेक्सेडंर भी इसी तरह का नाम है. ऐसे में स्पष्ट हैं कि  नाम में क्या रखा है.

एनडीटीवी से बातचीत के दौरान सैफ ने कहा, मैं जानता हूं कि पूरी दुनिया में इस्लाम को लेकर एक डर है. मुझे नहीं पता कि हम अपने बारे में धार्मिक तौर पर सोचते हैं, या किसी तरह से इसके मालिक हैं, तो फिर कौन है धर्म का मालिक? मैं अपने बेटे का नाम एलेक्सेंडर नहीं रख सकता और असल में मैं उसे राम भी नहीं बुला सकता. तो क्यों ना उसे एक अच्छा मुस्लिम नाम दिया जाए और उसे धर्मनिरपेक्षता की भावनाओं के साथ बड़ा करूं जहां हम एक दूसरे को प्यार करते हैं और इज्जत करते हैं.

और पढ़े -   बुलेट ट्रेन को लेकर आशुतोष राणा का तंज कहा, उधार की 'चुपड़ी' रोटी से अच्छी श्रम से अर्जित की गयी 'सुखी' रोटी

सैफ ने आगे कहा , ‘मैं इस नाम से जुड़े इतिहास के बारे में जानता हूं. लेकिन मैंने इस वजह से अपने बेटे का नाम तैमूर नहीं रखा है. मुझे पता है कि एक तुर्की शासक था जो क्रूर था. लेकिन उसका नाम तिमूर था और मेरे बेटे का नाम तैमूर है. यह एक जैसा जरूर सुनाई देता है. लेकिन एक नहीं है और बीते हुए कल को आज के लेंस से देखना बहुत ही दूर की बात है. एक नाम से कुछ फर्क नहीं पड़ा. अशोका भी एक हिंसक नाम है उसी तरह एलेक्सेडंर भी इसी तरह का नाम है.

और पढ़े -   ट्विटर पर भी बेताज बादशाह है शाहरुख़ खान, प्रशंसकों का आंकड़ा दो करोड़ 80 लाख के पार

गौरतलब रहें कि सैफ और करीना के बेटे का नाम तैमूर अली खान रखे जाने पर दक्षिणपंथी भगवा संगठनों ने सैफ अली खान और करीना कपूर खान की आलोचना की थी.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE