मुंबई | मुजफ्फरनगर के एक छोटे से कस्बे बुढाना से मुंबई तक का सफ़र तय करने वाले बॉलीवुड अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दीकी, आज फिल्म जगत का एक जाना माना चेहरा बन चुका है. फ़िलहाल स्थिति ऐसी बन चुकी है की फ़िल्मकार उनको केंद्र में रखकर फिल्मे बना रहे है. एक सामान्य से चेहरे मोहरे वाले नवजुद्दीन की खासियत उनकी अदायगी है. किसी भी तरह के किरदार में वो बड़ी सहजता से अपने आप को ढाल लेते है.

चाहे फिर रमन राघव का साइको किलर का किरदार हो या फिर हरामखोर का कामुकता से भरा अध्यापक का किरदार. दोनों ही रोल में नवाजुद्दीन ने अपनी अदायगी का लोहा मनवाया है. करीब 12 साल के स्ट्रगल के बाद नवाजुद्दीन को मुख्य भूमिकाये वाली फिल्मे मिलने शुरू हुई. लेकिन इसके बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नही देखा. उन्होंने शाहरुख़ खान से लेकर सलमान खान तक के साथ काम किया.

उनके काम ने उन्हें कई प्रतिभाशाली अभिनेताओ की श्रेणी में लाकर खड़ा कर दिया. लेकिन अभी भी बॉलीवुड में ऐसे लोग मौजूद है जिन्हें अदायगी से ज्यादा नवाजुद्दीन के चेहरे मोहरे से ज्यादा लेना देना है. चूँकि वो सुन्दरता के तय मापदंडो पर खरा नही उतारते तो शायद कुछ फिल्मकार अभी भी उन्हें अपनी फिल्मो का हिस्सा बनाने से हिचकते है. इस बात की पुष्टि नवाजुद्दीन के एक ट्वीट से भी होती है.

नवाजुद्दीन ने अपने एक ट्वीट के जरिये यह जताना चाहा की वह बॉलीवुड में रंगभेद का शिकार हुए है. उन्होंने ट्वीट किया,’मुझे यह महसूस कराने के लिए धन्यवाद कि मुझे गोरे और सुंदर लोगों के साथ नहीं लिया जा सकता, क्योंकि मैं सांवला हूं और सुंदर नहीं दिखता. लेकिन मैंने कभी इस ओर ध्यान नहीं दिया.’ हालाँकि नवाज ने यह नही बताया की यह घटना उनके साथ कब और किसने की.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE