nawaj

किक और मांझी-द माउंटेनमैन’ जैसी सफल फिल्मों में अपने अभिनय का लोहा मनवा चुकें नवाजुद्दीन सिद्दीकी अपनी एक्टिंग के लिए कान्स फिल्म महौत्सव में भी सम्मान पा चुके हैं.

कान्स फिल्म फेस्टिवल में शामिल होने के लिए नवाजुद्दीन फ्रांस गए थे. इस दोरान उन्होंने फ्रांसिसी किसानों से मुलाकात की. उन्होंने फ्रांसिसी किसानों से खेतों में जाकर सिंचाई की तकनीक ‘द सेंटर पिवॉट एरिगेशन सिस्टम’ के बारे में जानकारी ली. साथ ही सिंचाई की इस नई तकनीक का अपने गांव के खेतों में इस्तेमाल करने का फैसला लेते हुए तकनीक का सैंपल मॉडल अपने साथ ले लाए.

और पढ़े -   IFFM मेलबर्न में तिरंगा फहराने वाली पहली भारतीय महिला होंगी ऐश्वर्या

नवाजुद्दीन ने इस सिंचाई की तकनीक की जानकारी अपने गांव बुढ़ाना के किसानो को भी दी. गोरतलब रहें कि नवाजुद्दीन उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले में स्थित बुढ़ाना गांव के किसान परिवार से आते हैं. फिल्मों में अपना करियर शुरू करने से पहले नवाजुद्दीन करीब 22 साल की उम्र तक खेती-किसानी से भी जुड़े रहे हैं.

मेरा गांव बुढ़ाना पानी की कमी के चलते डार्क जोन घोषित किया जा चुका है. मैंने यहां एक अरसे तक खुद खेती की है. फ्रांस में जब मुझे खेती की एक ऐसी तकनीक के बारे में पता चला, जो कम बिजली-पानी खर्च किए, बारिश जैसा फायदा दे सकती है, तो मैं उसे अपने गांव ले आया. तकनीक और हमारी इच्छा, ये दो चीजें ही पानी को बचा सकती हैं.

नवाजुद्दीन सिद्दीकी


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE