बॉलीवुड सुपरस्टार आमिर खान ने एक्टर और एक्ट्रेस को मिलने वाली कमाई को लेकर कहा कि हिंदी सिनेमा में मिलने वाले मेहनताने में लिंग आधारित अंतर को खत्म करने का समय आ गया है.

उन्होंने कहा कि परिश्रामिक में कोई लिंगभेद नहीं होना चाहिए. यह कहीं से तार्किक नहीं कि परिश्रामिक को लेकर किसी प्रकार का भेदभाव किया जाए. उन्होंने कहा कि हिंदी सिनेमा में परिश्रामिक में लिंग आधारित अंतर को खत्म करने का समय आ गया है. समय-समय पर कई कलाकार अभिनेताओं और अभिनेत्रियों के मानदेय में भारी अंतर के बारे बात करते रहे हैं.

और पढ़े -   युद्ध को लेकर सलमान के बाद अब 'ट्यूबलाइट' के डायरेक्‍टर कबीर का बड़ा बयान

आमिर ने कहा, ‘‘मानदेय व्यक्ति के लिंग पर निर्भर नहीं होना चाहिए. यह समान होना चाहिए. पुरुषवादी सोच में बदलाव होना चाहिए.’


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE