vidya balan

मुंबई | आजकल सोशल मीडिया पर #metoo हैश टैग के साथ एक अभियान चल रहा है. इस अभियान के तहत बड़ी हस्तिया अपने साथ हुए यौन शोषण की घटना को सामने रख रही है. जब इस अभियान के बारे में अभिनेत्री विधा बालन से पुछा गया तो उन्होंने इसकी तारीफ करते हुए कहा की यौन शोषण हमेशा से होता आया है लेकिन अब लोग इस मुद्दे पर खुलकर बोल रहे है. जबकि पहले इन बातो को दबा दिया जाता था.

नवभारत टाइम्स को दिए इंटरव्यू में विधा बालन ने कई पहलुओ पर बात की. #metoo अभियान पर बात करते हुए उन्होंने अपने साथ हुई एक घटना का जिक्र किया. उन्होंने बताया की कॉलेज में पढाई के दौरान वह लोकल ट्रेन से सफ़र करती थी. इसलिए चेम्बूर से वीटी आना जाना लगा रहता था. विधा ने आगे बताया की एक दिन वहा वीटी स्टेशन पर खडी लोकल ट्रेन का इन्तजार कर रही थी. उसके साथ उनकी एक सहेली भी थी.

इस दौरान वहां खड़ा एक आर्मी जवान लगातार विधा को घूर रहा था. विधा ने बताया की वह लगातार मेरे ब्रेस्ट को घूर रहा था, इसके बाद उसने मुझे आँख भी मारी. यह देखकर मेरे तन बदन में आग लग गयी. इसलिए मैं उसके पास गयी और कहा की आप सेना के जवान हो जो हमारे देश की रक्षा का जिम्मा आपका है. फिर आप मुझे क्यों घूर रहे है? मुझे आपने आँख क्यों मारी? यह आपका छिछोरापन दर्शाता है.

विधा के आगे कहा की मेरी नसीहत सुनकर सेना का वह जवान शर्मिंदा हो गया. इस दौरान मेरी सहेली लगातार मेरा हाथ खींचकर मुझे वहां से ले जाने की कोशिश कर रही थी. बॉलीवुड में ऐसी किसी घटना पर उन्होंने कहा की मुझे फिल्म जगत में करीब 12 साल हो गए है लेकिन यहाँ मेरे साथ ऐसी कोई घटना नही हुई. सेक्सुअल हैरासमेंट की परिभाषा बहुत ही वृहद है. यह कुछ भी हो सकता है. हाथ लगाना, अश्लील बातें करना या मॉलेस्ट करना ही यौन शोषण नहीं होता, कई बार लोग आंखों ही आंखों में आपका बलात्कार कर देते हैं.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE