24.9 C
New Delhi,India
Monday, February 20, 2017
Home पाठको के लेख

पाठको के लेख

सोशल मीडिया को भगवा ब्रिगेड ने हमेशा से ही झूठा प्रचार करने के लिए आधार बनाया हैं. जिसके दम पर वे हमेशा से ही प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से मुसलमानों को टारगेट करते आये हैं. इस बार भगवा ब्रिगेड के निशाने पर प. बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी हैं जिनका केंद्र की...
मनुष्य जीवन बिताने के लिए विभिन्न स्रोतों और कामों को अपनाता है, जो अगर शरई और नैतिक सीमा में हो तो निश्चित रूप से प्रशंसनीय है लेकिन अगर डगर से हटकर हो तो यही काम और सूत्र अपराध बन जाते हैं, उदाहरण के तोर पर इस्लामी सिच्छा के हिसाब...
इस्लाम धर्म में हज एक पवित्र यात्रा हैं. जो इस्लामिक साल के आखिरी महीने में अदा की जाती हैं. ये यात्रा सभी मुसलमानों को करना अनिवार्य नहीं हैं. हज यात्रा केवल उसी पर अनिवार्य हैं जो अपने दम पर अपने पैसों से हज कर सकता हैं. अन्यथा उस पर...
साल 1996 यानी आज से करीब बीस साल पहले का वक्त। मैं हमारे नजदीकी कस्बे के एक स्कूल का छात्र था। स्कूल ने हाॅस्टल शुरू किया और मेरा दाखिला वहां करवा दिया गया। इस फैसले का मैंने घोर विरोध किया। घर में जो मजे और जैसी खुराफातों के मौके...
सोचिये जिन्हें नागरिकों की सुरक्षा के लिए तैनात किया गया है, वे लोग ही नागरिकों के लिए खतरा बन जाएं तो क्या होगा? कल्पना कीजिए वह समाज कैसा होगा जहाँ रक्षक ही भक्षक बन गए हों? छत्तीसगढ़ हमेशा से ही आंतरिक सुरक्षा की दृष्टि से काफी महत्वपूर्ण राज्य रहा है।...
मुझे सख्त नियम पसंद नहीं हैं। मैं आसान नियमों में विश्वास करता हूं क्योंकि यहां जिंदगी पहले से ही बहुत मुश्किल है। मेरा मानना है कि हर दिन के साथ नियम और ज्यादा आसान हो जाने चाहिए ताकि यह दुनिया कहीं ज्यादा बेहतर जगह बन सके। आज रविवार था, इसलिए...
आज के दौर में लोगों पर इस्लाम किस तरह पेश किया जाये ,यह एक गम्भीर प्रश्न भी है और एक चुनौती भी है। क्या इसके लिए क़ुरान के तर्जुमे छाप छाप कर दुनिया भर में बांटना सही तरीक़ा साबित होगा? मैं समझता हूँ कि यह कारगर सिद्ध नही होगा।...
यूनानी कहते हैं कि औरत साँप से ज़्यादा ख़तरनाक है। सक़रात का कहना था, कि औरत से ज़्यादा और कोई चीज़ दुनिया में फ़ित्ना-ओ-फ़साद की नहीं। बोना विटीवकर का क़ौल है कि औरत उस बिच्छू की मानिंद है जो डंक मारने पर तुली रहती है। यूहन्ना का क़ौल है...
हज़रत जुनैद बग़दादी रहमतुल्लाह अलैह फरमाते हैं कि एक हज्जाम था, वो उस वक्त़ मक्का में किसी रईस शख़्स के बाल बना रहा था, मेरी माली हालात निहायत शिकस्ता थी, मैंने हज्जाम से कहा "मैं उजरत के तौर पर तुम्हें एक पैसा नहीं दे सकता बस तुम अल्लाह के...
अमेठी जो कभी हमारा ज़िला भी था,आज हमारा पड़ोस भी है, वहां 11 लोगों की दर्दनाक मौत का वाक़िया, जो कुछ समझ में आया वह बहूत ही तकलीफ़ देह है. देश के सबसे बड़े राजघराने के नेता राहुल गांधी के अपने संसदीय क्षेत्र और कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी के चुनावी...

फेसबुक पर लाइक करें

ताज़ा समाचार

सप्ताह की प्रमुख खबरें