27 C
New Delhi,India
Wednesday, September 20, 2017
Home पाठको के लेख

पाठको के लेख

— राजीव शर्मा (कोलसिया) — रोहिंग्या ... एक ऐसा नाम है जिनके खून से बर्मा की सड़कें लाल हो चुकी हैं। यह सब उस देश की धरती पर हो रहा है जहां दिन—रात बुद्धं शरणं गच्छामि और शांति के मंत्र गूंजते हैं। विभिन्न अंतरराष्ट्रीय रिपोर्टों में रोहिंग्या मुसलमानों को दुनिया...
“इस हफ्ते के इश्यू में मेरे दोस्त डॉ वासु ने गोएबल्स की तरह इंडिया में फेक न्यूज़ बनाने की फैक्ट्री के बारे में लिखा है। झूठ की ऐसी फैक्ट्रियां ज़्यादातर मोदी भक्त ही चलाते हैं। झूठ की फैक्ट्री से जो नुकसान हो रहा है मैं उसके बारे में अपने...
रवीश कुमार तमिलनाडु की अनिता को सिस्टम की उदासीनता ने मारा है। सिर्फ अनीता को नहीं बल्कि गुजराती, बांग्ला, मराठी, अहोमिया, तेलुगु भाषाओं की हज़ारों अनिताओं के सपने कुचल दिए गए हैं। मई और जून के प्रादेशिक अख़बार उठाकर देखिये, NEET (NATIONAL ELIGIBILITY CUM ENTRANCE TEST) मेडिकल परीक्षा देने वाले...
bakra eid
ध्रुव गुप्त देश की अस्सी प्रतिशत से ज्यादा बकरे खा जाने वाले हिन्दुओं में से कई लोगों के भीतर ईद-उल-अज़ा यानी बकरीद आते-आते बुद्ध और महावीर जाग जाते हैं। देश के नब्बे प्रतिशत हिन्दू मांसाहारी हैं। उनसे आपको कोई समस्या नहीं है। कुछ जगहों पर प्रतिबंध के बावज़ूद आपके धर्म में...
रवीश कुमार अर्थव्यवस्था में गिरावट किसी के लिए अच्छी ख़बर नहीं है। इसका नुकसान सभी को उठाना पड़ता है। कस्बा और फेसबुक पेज @RavishKaPage पर यहां वहां से जुटा कर आर्थिक ख़बरों को पेश करता रहता हूं। ट्रोल को इससे तकलीफ होती है क्योंकि हिन्दू-मुस्लिम प्रोपेगैंडा में छेद हो जाता...
अभिसार शर्मा शर्म तुमको मगर आती नहीं। चलिए शर्म तो बहुत दूर की बात है, बीजेपी के तेवर में बला की दबंगई है। कुछ भी कर लो, कुछ भी कह लो। कोई कुछ नहीं उखाड़ सकता। ये भाव हर तरफ दिखाई दे रहा है। और दिक्कत ये की जनता में...
रवीश कुमार नोटबंदी फेल हो गई है। भारतीय रिज़र्व बैंक ने अपनी सालाना रिपोर्ट में कह दिया कि 99 प्रतिशत पांच सौ और हज़ार के नोट वापस आ गए हैं। नोटबंदी के समय 15 लाख 44 हज़ार करोड़ के पांच सौ और हज़ार के नोट चलन में थे। 15 लाख 28...
निर्भया के लिए रायसीना हिल्स को जंतर मंतर में बदल देने वाली हिन्दुस्तान की बची हुई बेटियाँ नोट करें कि दो साध्वी ने कैसे ये लड़ाई लड़ी होगी, जिसकी जेल यात्रा को प्रधानमंत्री के काफ़िले की शान बख़्शी गई। दोनों साध्वी किस हिम्मत से लड़ीं ? क्या आप जानती...
"जब भी मैं डेरा सच्चा सौदा के बारे में सुनता हूँ, मुझे 20 अक्टूबर 2002 की याद आ जाती है। उस दिन मैं हरियाणा के शहर सिरसा में था, जो डेरे के मुख्यालय के नज़दीक है। मुझे वहां के अखबार "पूरा सच" के संपादक रामचंद्र छत्रपति जी ने "वैकल्पिक...
पंचकूला की सीबीआई अदालत द्वारा गुरमीत राम रहीम को 15 साल पुराने मामले में अपने ही डेरा के साध्वी के बलात्कार का दोषी करार दिया। अन्य घटनाओं से हटकर इस बार इनके भक्तों ने सन्नाटा नहीं बल्कि आतंक और दहशत को जन्म दिया है। धर्म भी अजीब चीज होती...

फेसबुक पर लाइक करें

ज़रूर पढ़ें

ताज़ा समाचार

सप्ताह की प्रमुख खबरें

error: Contents of Kohraam.com are copyright protected.