18 C
New Delhi,India
Monday, November 20, 2017
Home पाठको के लेख

पाठको के लेख

muku
आठ नवंबर को नोटबंदी की पहली सालगिरह है. इस मौके पर मुकुल रॉय से अच्छा नेशनल गिफ्ट क्या हो सकता है. बिना वजह काले धन के आरोपी दूसरे दलों में घूमते दिखे, यह नोटबंदी की सफलता के ऑप्टिक्स के लिए भी अच्छा नहीं है. इसलिए बीजेपी उन्हें अपने घर ले आई. अब भाषण...
electon
जावेद अनीस की तरह अनिश्चिताओं से भरे राजनीति के इस खेल में हालत अचानक बदले हुए नजर आ रहे हैं. गुजरात में चुनावी बिगुल बज चूका है और इसी के साथ ही यहाँ की हवा बदली हुई नजर आ रही है. अमित शाह और मोदी का अश्वमेघ रथ अपने ही...
sheri shah suri
यह लेख गुरदीप सिंह सप्पल की फेसबुक टाइम लाइन से लिया गया है जो राज्यसभा टीवी के पूर्व सीईओ रहे हैं। वे अपनी फेसबुक टाइमलाइन पर लिखते हैं कि पांच साल में क्या कुछ कर है एक हाकिम, यदि वह चाह ले तो... शेरशाह सूरी जिसे हम लोग जीटी रोड बनवाने...
रवीश कुमार तीस दिन में रेल मंत्री पीयूष गोयल के रोज़गार से संबंधित दो बयान आए हैं। 1 अक्तूबर 2017 को छपे बयान में गोयल कहते है कि रेलवे में एक साल के भीतर ही दस लाख रोज़गार पैदा हो सकते हैं। आज यानी 30 अक्तूबर को छपे बयान में...
cropped kohram logo high long.jpg
दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र भारत पत्रकारिता के लिहाज से सबसे खतरनाक मुल्कों की सूची में बहुत ऊपर है. रिपोर्टर्स विदआउट बॉर्डर्स  द्वारा 2017 में जारी वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम इंडेक्स के अनुसार इस मामले में 180 देशों की सूची में भारत 136वें स्थान पर है. यहाँ अपराध, भ्रष्टाचार, घोटालों, कार्पोरेट व बाहुबली नेताओं के कारनामें...
2012 में जब गुजरात में चुनाव करीब आ रहे थे तब गुजरात में घर को लेकर काफी चर्चा हो रही थी। कांग्रेस ने गुजरात की महिलाओं के लिए घर नू घर कार्यक्रम चलाया था कि सरकार में आए तो 15 लाख प्लाट देंगे और 15 लाख मकान। कांग्रेस पार्टी...
rajj1
— राजीव शर्मा (कोलसिया) — इस चेहरे को गौर से देखिए। किसी मामूली का आदमी चेहरा मालूम होता है। इतना मामूली कि एक बार कोई देख भी ले तो शायद एक दिन या एक हफ्ते बाद याद ही न रहे, लेकिन इन्होंने हमारे देश के लिए इतना बड़ा काम किया...
जो 60 साल में नहीं हुआ वह 60 महीने में होगा। कुछ इसी उम्मीद के आसरे मई 2014 की शुरुआत हुई थी। और 40 महीने बीतने के बाद अक्टूबर 2017 में राहुल गांधी गुजरात को जब चुनावी तौर पर नाप रहे हैं तो अंदाज वही है जो  2013-14 में...
गुजरात चुनाव में सड़कों पर अगर युवा नजर आने लगे हैं। तो उसके पीछे महज पाटीदार, दलित या ओबीसी आंदोलन नही है। और ना ही हार्दिक पटेल,अल्पेश या जिग्नेश के चेहरे भर है । दरअसल गुजरात का युवा जिस संकट से गुजर रहा है उसका सच महंगी शिक्षा और...
mera1
उदय छे जब बचपन मे स्कूल जाते थे तो ट्रकों, मकान के आगे, स्कूल के गेट पर लिखा मिलता था मेरा भारत महान।  बच्चे थे समझ नही पाते थे इसका मतलब टीचर से पूछा तो उसने बताया था कि मेरा जो भारत है वो सबसे अच्छा है। पूरी दुनिया मे...

फेसबुक पर लाइक करें

ज़रूर पढ़ें

ताज़ा समाचार

सप्ताह की प्रमुख खबरें

error: Contents of Kohraam.com are copyright protected.