लखनऊ,दहेज और कन्या भ्रूण हत्या जैसी सामाजिक बुराइयों को समाप्त करने के लिए यूपी सरकार ने नई व्यवस्था शुरू की है। सरकारी नौकरी देने से पहले सरकार अब नौजवानों से इस बाबत शपथपत्र ले रही है कि वह दहेज नहीं लेंगे।

सरकारी विभागों में नियुक्त होने वाले कनिष्ठ लिपिकों से शपथपत्र मांगा जा रहा है। उम्मीदवारों को शपथ देना अनिवार्य है। इसमें एक से ज्यादा शादी न करने की भी शपथ मांगी गई है।

और पढ़े -   चैंपियंस ट्राफी के फाइनल में पाकिस्तान ने दी भारत को करारी शिकस्त, ये रहे हार के 5 बड़े कारण..

हाल ही में प्रदेश में उत्तर प्रदेश स्टेट सबोर्डिनेट सर्विस कमीशन (यूपीएसएसएससी) की ओर से सरकारी विभागों में खाली पड़े कनिष्ठ लिपिक पदों पर भर्ती प्रक्रिया हुई थी। मापतौल विभाग में करीब 20 पद हैं।

विभाग ने नवनियुक्त होने वाले कनिष्ठ लिपिकों से दहेज न लेने का शपथ मांगा है। अभ्यर्थियों को शपथ पत्र पर दहेज प्रतिषेद अधिनियम 1961 एवं उत्तर प्रदेश दहेज प्रतिषेद नियमावली 1999 के तहत शपथ लेनी होगी कि वह नियुक्ति के बाद अपनी शादी में दहेज नहीं लेंगे।

और पढ़े -   चैंपियंस ट्राफी के फाइनल में पाकिस्तान ने दी भारत को करारी शिकस्त, ये रहे हार के 5 बड़े कारण..

साभार अमर उजाला


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE