हर मुस्लिम को पाकिस्तानी कहकर ताने मारने वाले लोगो तथा मुस्लिमों को बात-बात पर पाकिस्तान भेजने वालो के लिए करगिल युद्ध में शहीद कैप्टन मंदीप सिंह की बेटी का एक सन्देश हैं. जिसमे उन्होंने इस नफरत को बेबुनियाद बताया हैं.

करगिल युद्ध में शहीद कैप्टन मंदीप सिंह की बेटी गुरमेहर कौर का सोशल मीडिया पर एक विडियो वाइरल हो रहा हैं जिसमें उन्होंने बिना कुछ बोले लिखित संदेशों के सहारे अपना सन्देश पहुँचाया हैं. गुरमेहर के पिता करगिल युद्ध में शहीद हो गए थे उस वक्त वह केवल 2 साल की थीं.
गुरमेहर के अनुसार वह बचपन से ही मुस्लिमों से बेहद नफरत करती थीं और हर मुस्लिम को पाकिस्तानी समझती थी. वह हर मुसलमान को अपने पिता की मौत का जिम्मेदार मानती थीं. वीडियो में उन्होंने इस बारे में अपने बचपन की एक घटना का जिक्र भी किया हैं. उस घटना के बाद उनकी मां ने उन्हें समझाया कि उनके पिता की मौत का जिम्मेदार पाकिस्तान और मुस्लमान नहीं हैं बल्कि दोनों देशों के बीच होने वाला युद्ध था.

उन्हें माँ के समझाने के बाद एहसास हुआ और उन्होंने राम सुब्रमनियन के साथ मिलकर यह विडियो बनाया. उन्होंने दोनों देशों की सरकारों से अपील की हैं कि दोनों देशों के ज्यादातर लोग इस नफरत के खिलाफ हैं और जितनी जल्दी हो सके इन मुद्दों को सुलझाया जायें. इसके लिए उन्होंने जर्मनी तथा फ्रांस के रिश्तों, अमेरिका तथा जापान के रिश्तों का हवाला दिया. उन्होंने कहा कि दो विश्वयुद्ध के बाद फ्रांस और जर्मनी सब कुछ भुलाकर आगे बड सकते हैं, अमेरिका और जापान रिश्तों की नई इबारत लिख सकते हैं तो हम क्यों नहीं.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें