har

माहे रमजान का महिना रहमतों और बरकतों का महिना हैं. जिसमे अल्लाह अपने बन्दों के गुनाहों को माफ़ कर उनकी दुआ कबुल करता हैं. अल्लाह ने रमजान के महीने में इस शख्स की दुआ कबुल हुई हैं. मक्का के हरम शरीफ में रमज़ान की पहली तरावीह पढ़ने गए इस शख्स को अल्लाह का ईनाम मिला हैं. इस शख्स की 9 साल पहले गई आँखों की रौशनी मिल गई हैं.

ये शख्स हरम शरीफ में पहली तरावीह अदा करने गए थे. तरावीह की नमाज के दोरान इनकी आँखों की रौशनी वापस लौट आई. इतना ही नहीं जब अचानक से इस व्यक्ति को दिखाई देने लगा तो वह भावुक हो गया और ज़ोर ज़ोर से अल्लाहु अकबर के नारे लगाने लगा.अल्लाह के इस करिश्मे को लोगों ने अपने मोबाईल फोन में कैद कर लिया और इसे सोशल मीडिया पर शेयर किया. अल्लाहु अकबर के नारे लगा रहे शख्स को लोगों ने आँखों की रौशनी वापस आने के लिए मुबारकबाद दी.

इस शख्स को करीब 9 साल पहले उसकी आँखों की रौशनी कम होना शुरू हो गई थी और अचानक उसकी आँखों की रौशनी पूरी तरह जाती रही और उसे दिखाई देना बिल्कुल बंद हो गया था. कई बड़े डॉक्टर को दिखाने के बाद भी कुछ फायदा नहीं हुआ था. लेकिन अल्लाह के करम से आज वे दोबारा देख सकते हैं.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें