नई दिल्ली। अमेरिकी कांग्रेस के 34 सांसदों ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर देश में धार्मिक अल्पसंख्यकों के खिलाफ बढ़ती असहिष्णुता और हिंसा के प्रति गहरी चिंता जताई। अमेरिका के प्रतिनिधि सभा के 26 सदस्यों तथा सीनेट के आठ सदस्यों ने मोदी को लिखे पत्र में कहा कि भारत के ईसाई, मुसलमान और सिख समुदायों से होने वाला बर्ताव विशेष चिंता की बात है।

पत्र में कहा गया है कि छत्तीसगढ़ में इसाई समुदायों पर खतरे तथा बीफ खाने की आशंका को लेकर मुस्लमानों की हत्या चिंता की बात है। पत्र में कहा गया है कि 17 जून 2014 को छत्तीसगढ़ के बस्तर जिले में 50 ग्राम परिषदों ने अपने समुदायों में सभी गैर हिंदू धार्मिक प्रचार, प्रार्थना और भाषण पर प्रतिबंध लगाने का एक प्रस्ताव स्वीकार किया था। उन्होंने कहा कि ईसाई अल्पसंख्यक समुदाय इससे बुरी तरह से प्रभावित हुआ है।

सांसदों ने आरोप लगाया कि प्रतिबंध लागू होने पर बस्तर जिले में ईसाइयों पर कई बार हमले किए गए। सांसदों ने पत्र में कहा कि हम आपसे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) जैसे संगठनों की गतिविधियों को नियंत्रित करने के लिए कदम उठाने की मांग करते हैं। इसके साथ ही कानून का शासन लागू करने और धार्मिक रूप से प्रेरित उत्पीडऩ और हिंसा से धार्मिक अल्पसंख्यक समुदायों का संरक्षण के लिए भारतीय सुरक्षा बलों को निर्देश देने की अपील करते हैं।

उन्होंने कहा कि हम चाहते हैं कि आपकी सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए तुरंत कदम उठाए कि अल्पसंख्यकों के मौलिक अधिकारों की सुरक्षा हो और उनके खिलाफ हुई हिंसा के आरोपियों पर कार्रवाई हो। उन्होंने सिख समुदाय के विशिष्ट धर्म के रूप में पहचान नहीं होने पर भी चिंता जताई। (राजस्थान पत्रिका)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

Facebook Comment

Related Posts

loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें