army-647_092315061957

हिजबुल कमांडर बुरहान वानी की मौत के बाद भड़की हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही हैं. दो महीनों से ज्यादा वक्त गुजर जाने के बाद भी सरकार के हाथ खाली हैं. बड़ते विरोध के कारण सरकार को कश्मीर में फिर से सेना की वापसी को मजबूर होना पड़ा हैं.

शुक्रवार को पुलवामा, शोपियां, कुलगाम और अनंतनाग में फिर से सेना को तैनात किये जाने का फैसला किया गया हैं. 2014 में इन इलाकों से सेना को हटा लिया गया था. इन जिलों में अब तक सबसे अधिक हिंसक घटनाएं हुई हैं. घाटी में अब तक 70 से अधिक लोगों की जानें जा चुकी हैं और हजारों घायल हो चुके हैं.

वहीँ दूसरी तरफ अलगाववादियों ने भी सेना की वापसी के बाद विरोध प्रदर्शनों का कैलेंडर जारी किया हैं. और ईद के मौके पर ‘यूएन चलो मार्च’ निकालने का ऐलान किया हैं.

सेना प्रमुख जनरल दलबीर सिंह सुहाग ने सुरक्षा स्थितियों का जायजा लेते हुए जवानों से प्रशासन की मांग के प्रति सतर्क रहने को कहा है.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें