कांग्रेसी नेता और पूर्व मंत्री शशि थरूर ने मोदी सरकार पर कटाक्ष करते हुए कहा, “मेक इन इंडिया और हेट इन इंडिया’ साथ साथ नहीं चल सकते हैं। देश की प्रगति, विकास, इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए विदेशी निवेश बेहद आवश्यक है लेकिन विदेशी निवेश तभी भारत आयेगा जब देश की बहुधर्मी विचारधारा सुरक्षित रहेगी।” उन्होंने कहा कि बीजेपी नेताओं द्वारा अल्पसंख्यकों के खिलाफ दिये जाने वाले नफरत भरे बयान देश को खोखला कर रहे हैं।

Modi can't promote Make in India abroad, Hate in India at home: Shashi Tharoor

अगर हम विश्व के सामने महाशक्ति बनना चाहते हैं तो पहले हमें घरेलू मसले हल करने होंगे। हॉवार्ड विश्वविद्यालय में भारतीय वार्षिक सम्मेलन 2016 में बोलते हुए उन्होंने कहा, ” अगर हम महाशक्ति बनना चाहते है तो हमें पहले अपने घरेलू मसले हल करने होंगे साथ ही हमें अपने लोगों को स्वस्थ और सुरक्षित रखने के लिए जरूरी कदम उठाने होंगे।

एक तरफ हम विदेशी निवेश के लिए दुनिया भर में मेक इन इंडिया, स्टार्ट अप इंडिया, और डिजिटल इंडिया कर बात करते हैं। दूसरी तरफ देश में नफरत भरा महौल साथ- साथ नहीं चल सकता। अपने भाषण में उन्होंने दावा करते हुए कहा कि भारत के आइडिया ऑफ इंडिया को बना कर रखने की जरुरत है क्योंकि भारत की पहचान उसके सभी नागरिकों की पहचान में समाहित है।


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें