कांग्रेसी नेता और पूर्व मंत्री शशि थरूर ने मोदी सरकार पर कटाक्ष करते हुए कहा, “मेक इन इंडिया और हेट इन इंडिया’ साथ साथ नहीं चल सकते हैं। देश की प्रगति, विकास, इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए विदेशी निवेश बेहद आवश्यक है लेकिन विदेशी निवेश तभी भारत आयेगा जब देश की बहुधर्मी विचारधारा सुरक्षित रहेगी।” उन्होंने कहा कि बीजेपी नेताओं द्वारा अल्पसंख्यकों के खिलाफ दिये जाने वाले नफरत भरे बयान देश को खोखला कर रहे हैं।

और पढ़े -   जीएसटी की दरे हुए निर्धारित , जानिए किस आइटम पर कितना लगेगा टैक्स

अगर हम विश्व के सामने महाशक्ति बनना चाहते हैं तो पहले हमें घरेलू मसले हल करने होंगे। हॉवार्ड विश्वविद्यालय में भारतीय वार्षिक सम्मेलन 2016 में बोलते हुए उन्होंने कहा, ” अगर हम महाशक्ति बनना चाहते है तो हमें पहले अपने घरेलू मसले हल करने होंगे साथ ही हमें अपने लोगों को स्वस्थ और सुरक्षित रखने के लिए जरूरी कदम उठाने होंगे।

और पढ़े -   इल्म के बिना इंसान अधूरा है : आरिफ बरकाती

एक तरफ हम विदेशी निवेश के लिए दुनिया भर में मेक इन इंडिया, स्टार्ट अप इंडिया, और डिजिटल इंडिया कर बात करते हैं। दूसरी तरफ देश में नफरत भरा महौल साथ- साथ नहीं चल सकता। अपने भाषण में उन्होंने दावा करते हुए कहा कि भारत के आइडिया ऑफ इंडिया को बना कर रखने की जरुरत है क्योंकि भारत की पहचान उसके सभी नागरिकों की पहचान में समाहित है।

और पढ़े -   जीएसटी की दरे हुए निर्धारित , जानिए किस आइटम पर कितना लगेगा टैक्स

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE