विशेष। उज़्बेकिस्तान का शहर खीवा वर्ल्ड हेरिटेज़ साइट में शामिल है। करीब 2000 साल के इतिहास वाले शहर में सिल्क रोड के समय के महलों, मस्जिदों और मक़बरों के खंडहर मिलते हैं। कायजलकुम और काराकुम के रेगिस्तान से घिरा हुआ है ये शहर। ईरान को जाने वाले कारवां का ये आख़िरी पड़ाव हुआ करता था और ये कारवां पेपर, चीनी मिट्टी, मसाले, घोड़े, ग़ुलाम और फल लेकर वहाँ जाते थे। Muhammad_ibn_Musa_al-Khwarizmiलेकिन खीवा शहर की सबसे बड़ी ख़ासियत है इस्लामी स्थापत्य से बनी इमारतें उज़्बेकिस्तान के अंदर रेगिस्तान में पूर्ण रूप से नख़लिस्तान-रेगिस्तान के बीच हरे-भरे क्षेत्र; जैसा शहर है खीवा। शहर का आंतरिक हिस्सा इचान काला के नाम से जाना जाता है जो 10 मीटर ऊंची ईंट की दीवारों से घिरा है।
45 मीटर ऊंची इमारत
____________________
इचान काला की बड़ी इमारतों के बाहर आपको अलग दिखने वाली दुकानें नज़र आएंगी। यहां की परंपरागत लाल हैट काफ़ी मशहूर है। इचान काला से गुजरते हुए इस्लाम ख़्वाजा मदरसा एवं मीनार की उपेक्षा करना संभव नहीं है। 45 मीटर की ऊंचाई वाली यह इमारत खीवा की सबसे ऊंची इमारत है। खीवा की सबसे शानदार इमारतों में एक है खाल्टा माइनर मीनार, यह मीनार चमचमाते टाइल्स से बनी है और पश्चिमी गेट से जैसे ही आप इमारत के अंदर आते हैं, इसकी ख़ूबसूरती मोहित कर लेती है।
आमीन ख़ान का सपना
____________________
इस मिनी मीनार को मोहम्मद आमीन ख़ान ने बनवाया था। आमीन ख़ान खीवा के मशहूर शासक थे। वे इतनी ऊंची इमारत बनवाना चाहते थे, जिससे दक्षिण पूर्व में 400 किलोमीटर दूर बुख़ारा को देखा जा सके। उन्होंने मीनार बनवाने का काम 1851 में शुरू किया था। 1855 में उनकी मृत्यु के बाद काम थम गया और तब तक 14 मीटर चौड़ा और 26 मीटर ऊंचा मीनार ही तैयार हो पाया था। खीवा के शासकों का महल है कुहना आर्क, इसके अंदर की मस्जिद पर 1838 में स्थानीय टाइल्स लगाई गई थीं। खीवा की कई इमारतों में इस तरह की नक्क़ाशी देखने को मिल सकती है।
अलजेब्रा का जन्म
____________________
शताब्दियों तक मध्य एशिया अध्ययन का केंद्र रहा है। खीवा इसका अपवाद नहीं है, यहां 780 में फ़ारसी विद्वान अबू अब्दलाह मोहम्मद इब्न मूसा अल ख़्वारिज़्म का जन्म हुआ था। उन्हें कई बार कंप्यूटर साइंस का ‘ग्रैंड फादर’ भी कहते हैं। दशमलव पद्धति को लोकप्रिय बनाने का श्रेय इन्हें ही है, वैसे अलजेब्रा का जन्म यहीं हुआ है। अलजब्रा पर उन्होंने महत्वपूर्ण किताब लिखी जिसका नाम था-हिसाब अल जबर वल मुक़ाबला। अबू अब्दलाह मोहम्मद की विरासत आज शहर के पश्चिमी दरवाज़े पर उनकी मूर्ति के रूप में भी देखी जा सकती है। इस शहर की ख़ूबसूरती केवल दीवारों के अंदर तक सीमित नहीं है बल्कि ज़्यादातर आबादी इसके बाहरी हिस्से में रहती है। शहर का मिज़ाज जानना हो तो उसकी नब्ज़ यहां के बाज़ार में महसूस की जा सकती है।
बाज़ार की रौनक
____________________
यहां आने के बाद इचान काला के बाहर आप पूर्वी गेट से निकलें तो वहां बाहर शहर का बाज़ार मौजूद है। शहर के इतिहास और ख़ूबसूरती को जानने के लिए बाहर निकलकर एक कप चाय पीना सबसे बेहतर विकल्प है। चाय उज़्बेक संस्कृति का अहम हिस्सा है यहां टी-हाउस को चाय ख़ाना कहते हैं। उज़्बेक लोगों में चाय खाना ब्रिटिश संस्कृति के पब की तरह है और ये ख़ासे लोकप्रिय भी हैं। चाय देना यहां के स्वागत सत्कार की संस्कृति है। अमूमन यहां चाय बिना दूध और चीनी के पी जाती है और हर खाने की शुरुआत और अंत चाय के कप से होता है। साभार: तीसरी जंग न्यूज़

लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें