नई दिल्ली, पठानकोट आतंकी हमले की जांच कर रही नेशनल इनवेस्टिगेशन एजेंसी (एनआईए) को एसपी सलविंदर सिंह की गाड़ी से चीन निर्मित वायरलेस सेट मिला है। आतंकवादियों ने 31 दिसंबर- 1 जनवरी को सलविंदर सिंह की इसी गाड़ी का इस्तेमाल एयरबेस तक पहुंचने के लिए किया था।

salv

एनआईए ने शुरुआती जांच में पाया है कि इस वायरलेस सेट का सारा डेटा मिटा दिया गया है। इस सेट को एनटीआरओ और सीएफएसएल भेजा गया है ताकि मिटाए गए डेटा को वापस हासिल किया जा सके। वायरलेस सेट के डेटा से इस हमले के बारे में नई जानकारी मिल सकती है।

एनआईए के मुताबिक यह वायलेस सेट पिछले साल जम्मू-कश्मीर के सांबा में हुए आतंकी हमले में इस्तेमाल किए गए सेट की तरह है। हालांकि यह सवाल खड़ा हो रहा है कि एसपी की गाड़ी से यह वायरलेस सेट अब क्यूं मिला। जबकि एनआईए इस गाड़ी की सघन पड़ताल कर चुकी है।

उधर पिछले तीन दिन से चल रही सलविंदर की पूछताछ के बाद एनआईए ने उस मजार के बाबा को भी दिल्ली तलब किया है। सोमपाल नाम के मजार के बाबा और सलविंदर का रसोइया मदन गोपाल बृहस्पतिवार को एनआईए मुख्यालय पहुंचेगा। एनआईए सूत्रों के मुताबिक इन दोनों की सलविंदर के साथ पूछताछ की जाएगी।

गौरतलब है कि सलविंदर ने एजेंसी को बताया था कि वह अपने दोस्त के साथ 31 दिसंबर को मजार पर गया था जहां से लौटते वक्त आतंकवादियों ने उन्हें अगवा कर लिया था।

एनआईए को सलविंदर के जवाबों में कई तरह की असमानताएं मिल रही हैं। उधर एनआईए ने उस रास्ते का भी पक्का पता कर लिया है जहां से अगवा करने के बाद आतंकी एयरबेस तक पहुंचे थे। इन रास्तों पर लगे सीसीटीवी की जांच भी की जा रही है।

साभार अमर उजाला


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें