305EF92100000578-0-image-m-11_1453307668716

कोलोन – जर्मनी के शहर कोलोन में न्यू इयर ईव पर एक गुट द्वारा महिलाओं से छेड़छाड़ और रेप की घटना पर वहां के एक इमाम ने विवादित बयान दिया है। इमाम ने इस घटना के लिए उल्टे महिलाओं को ही दोषी ठहराते हुए कहा कि ऐसा उनके भड़काऊ कपड़े पहनने और परफ्यूम लगाने के कारण हुआ।

कोलोन की अल तौहीद मस्जिद के इमाम समी अबु यूसुफ़ ने कहा, ‘न्यू इयर ईव के उस इवेंट में लड़कियों की ही गलती थी, क्योंकि वे कम कपड़े पहने थीं और उन्होंने परफ्यूम लगाया हुआ था।’

सुन्नी इस्लाम का बेहद कट्टर स्वरूप सलाफिज़्म का प्रचार करने वाले यूसुफ ने कहा, ‘इसमें कोई हैरानी की बात नहीं है कि फिर पुरुषों ने उन पर हमला किया। इस तरह के कपड़े पहनना आग में घी डालने जैसा है।’

और पढ़े -   रोहिंग्याओं के नरसंहार को रोकना है तो म्यांमार पर लगे कड़े प्रतिबंध: ह्यूमन राइट्स वॉच

बता दें कि नए साल पर कोलोन में एक ग्रुप ने सैकड़ों लड़कियों के साथ छेड़ख़ानी की थी। कुछ के साथ बलात्कार भी किया गया था। कोलोन पुलिस ने जांच के बाद इस घटना में शरणार्थियों का हाथ बताया था। आपको बताते चले सलफी इस्लाम की व्याख्या कट्टरता से करता है और आतंकवादी संगठन ISIS इसी विचारधारा को मानने वाले लोग है

और पढ़े -   40 साल से बन रही नहर का बाँध टूटा, नितीश आज करने वाले थे उद्घाटन

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE