sharad yadav over shri shri ravishanker

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा बिहार में महागठबंधन का साथ छोड़ने को लेकर बागी तेवर अपनाए हुए शरद यादव के खिलाफ जेडीयू के नेताओं ने भी मौर्चा खोल दिया है.

जेडीयू नेताओं ने शरद यादव की सदस्यता खत्म करने के लिए उपराष्ट्रपति से मुलाकात की है. उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू से जेडीयू के राज्यसभा में संसदीय दल के नेताआरसीपी सिंह और जेडीयू के महासचिव संजय झा मिलने पहुंचे.

और पढ़े -   40 साल से बन रही नहर का बाँध टूटा, नितीश आज करने वाले थे उद्घाटन

इस दौरान उपराष्ट्रपति को दिए ज्ञापन में बताया गया है कि कैसे शरद यादव स्वेच्छा से जदयू को त्याग चुके हैं. इस दौरान पटना के गांधी मैदान में  27 अगस्त को राजद की रैली में शरद यादव के शामिल होने का भी हवाला दिया गया.

ध्यान रहे पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान में राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) की ‘बीजेपी भगाओ, देश बचाओ’ महारैली में लालू प्रसाद यादव के साथ मंच साझा किया था.

और पढ़े -   अमेज़न महाऑफर - लैपटॉप पर 27,000 रुपए का डिस्काउंट

जदयू के राष्ट्रीय महासचिव संजय झा ने बताया कि शरद यादव को जदयू की ओर से आधिकारिक तौर पर यह पत्र लिखा गया था कि वे राजद की  रैली में शामिल न हों. पार्टी के निर्देश का उल्लंघन कर उन्होंने राजद की रैली में मंच साझा किया.

उन्होंने कहा, यह संविधान के दसवें अनुच्छेद के तहत स्वत: दल त्याग का मामला बनता है. पूर्व में ऐसे मामलों में सदस्यता खत्म होने के दृष्टांत हैं.

और पढ़े -   40 साल से बन रही नहर का बाँध टूटा, नितीश आज करने वाले थे उद्घाटन

जदयू नेताओं ने उपराष्ट्रपति को बताया कि बीजेपी के साथ जाने का फैसला सर्वसम्मति से लिया गया था. विधानमंडल-संसदीय दल, राष्ट्रीय कार्यसमिति और राष्ट्रीय परिषद को इसकी सहमति थी.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE