प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार में कृषि राज्य मंत्री डॉ.संजीव बालियान के विवादास्पद बयान के कुछ घंटों बाद ही राजस्थान में एक किसान ने आत्महत्या कर ली.

मंत्री ने एक किसान से कहा ...जा कर ले सुसाइड और दूसरा फंदे से झूल गया

मृतक किसान फसल खराब होने से परेशान था और कर्ज के चलते मौत को गले लगा बैठा. प्रदेश के टोंक जिले का यह मामला अब तूल पकड़ता जा रहा है. केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री के बयान के बाद कांग्रेस ने अब केंद्र और राज्य सरकार को किसान विरोधी करार देते हुए किसानों की मौत का जिम्मेदार बताया है.

किसान की खुदकुशी के पीछ भी सरकार को दोषी बताते हुए कांग्रेस ने मृतक के परिजनों को 10 लाख रुपए के मुआवजे की मांग की है. साथ ही कांग्रेस ने इस मामले में पांच दिन में मांगे नहीं माने जाने पर जिलास्तरिय आंदोलन की चेतावनी भी दी है.

उल्लेखनीय है कि सोमवार को केंद्रीय राज्य मंत्री संजीव बालियान टोंक आए हुए थे और उन्होंने एक किसान को कह डाला था, जा कर ले सुसाइड. इसके अगले ही दिन इसी जिले के पीपलू उपखंड के बीजवाड़ गांव में सिर तक कर्ज में डूबे एक अन्य किसान ने फसल ख़राब के बाद तनाव में आकर फांसी लगा आत्महत्या कर ली.

अब यह मामला तूल पकड़ता नज़र आ रहा है. इस मामले को लेकर बुधवार सुबह से कांग्रेस बेहद सक्रिय नज़र आई और उसने कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन कर जिला कलेक्टर डॉ. रेखा गुप्ता को ज्ञापन सौंपा.

जिलाध्यक्ष रामविलास चौधरी के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने इससे पूर्व कलेक्ट्रेट पर सरकार विरोधी नारे भी लगाए. कांग्रेसी अपने साथ मृतक किसाम परमेश्वर गुर्जर के बीजवाड़ स्थित मोयले से नष्ट हुई फसल का नमूना भी साथ लाये थे.

कांग्रेस ने मुख्यमंत्री के नाम सौंपे ज्ञापन में परमेश्वर की मौत के लिए सरकारी सिस्टम को दोषी ठहराते हुए उसके आश्रितों को कम से कम 10 लाख रुपए का मुआवजा दिए जाने की मांग की.

tonk

जिलाध्यक्ष रामविलास चौधरी बाद में बीजवाड़ गांव भी पहुंचे और वहां पीसीसी चीफ और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष की ओर से भेजा गया शोक संदेश देते हुए परिजनों को ढांढस बंधाया.

इधर, इस मामले के सुर्खियों में आने के बाद उपखंड अधिकारी पीपलू बीएम नोगिया व जिला प्रमुख सत्यनारायण चौधरी भी बीजवाड़ गांव पहुंचे. उन्होंने परिजनों से आत्महत्या के कारणों के बारे में विस्तृत बातचीत की. मृतक की पत्नि व पुत्रों द्वारा परमेश्वर के कर्जे से तंग होने व मोयला रोग से फसल नष्ट होने की बात कहे जाने के बाद प्रमुख सत्यनारायण चौधरी ने परिवार को मदद का आश्वासन दिया. इस अवसर पर राज्य सफाई आयोग के सदस्य दीपक संगत भी प्रमुख के साथ रहे. गौरतलब है कि 45वर्षीय परमेश्वर गुर्जर ने सोमवार की रात अपने खेत में बने कुए में लगे पाइप पर धोती से फांसी लगा आत्महत्या कर ली गई थी. (Pradesh18)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें