प्रदेश के आईपीएस अधिकारियों का सम्मेलन शुक्रवार को लखनऊ के विधानसभा तिलक हाल में शुरू हो गई है. वहीं मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने पुलिस की छवि पर फिर सवाल खड़े किये है. प्रदेश भर से जुटे आईपीएस अफसरो को संबोधित करते हुए सीएम ने कहा कि मैंने सभी अफसरों को खुली छूट दे रखी है, जो लोग सांप्रदायिक माहौल बिगाड़ें, उन पर कड़ी कार्रवाई की जाए.

पुलिस वीक: सांप्रदायिक माहौल बिगाड़ने वालों के खिलाफ कार्रवाई करे पुलिस, सीएम अखिलेश

पुलिस की सामने अपनी छवि सुधारने और संप्रदायिकता की सबसे बडी चुनौती है. जहां सपा सरकार में पुलिस अफसरो को खुलकर काम करने की आजादी है. लेकिन जनता के बीच पुलिस की छवि बेहतर करने की जिम्मेदारी शासन और जिले के अफसरो पर खुद है. मुख्यमंत्री ने आगरा अपहरण और स्नैपडील मामले में पुलिस की तारीफ करते हुए कहा कि सरकारे आती जाती रहेंगी. लेकिन पुलिस को बिना भेदभाव के काम करना होगा.

जिससे जनता में पुलिस की छवि में सुधाए आये.हालांकि मुख्यमंत्री ने पुलिस में थाने बिकने और अफसरो के भ्रष्टाचार पर कोई चर्चा नही की.लेकिन इतना जरूर कहा कि जिलो में कैसा काम हो रहा है.हमें सारी खबरे मिलती रहती है.

अब अफसरो को खुद तय करना है कि उन्हे किस रूप में जाना जाये.पुलिस वीक के मौके पर पुलिस को स्वंय में आत्मअवलोकन करना चाहिये.इस अवसर पर प्रदेश के छोटे से लेकर बड़े स्तर तक सभी आईपीएएस अधिकारी मौजूद थे. (Pradesh18)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें