03495403-a1ee-4c41-8766-0c144bdb5011

नेपिडा | म्यांमार में मुसलमानों पर अत्याचार जारी है. म्यांमार में रहने वाली रोहिंग्या प्रजाति के खिलाफ पिछले छह महीने से हिंसा हो रही है. वहां मुस्लिम परिवारों को जिन्दा जलाया जा रहा है. इसके अलावा मुसलमानों के धर्म स्थल को भी निशाना बनाया जा रहा है. अन्तराष्ट्रीय दबाव में म्यांमार सरकार ने मुस्लिम हिंसाग्रस्त क्षेत्रो में अतरिक्त सुरक्षाबल तैनात करने का फैसला किया था.

खबरों के अनुसार अक्टूबर में इन क्षेत्रो में सुरक्षाबल भेज दिए गए थे. लेकीन जब रक्षक ही भक्षक बन जाए तो वहां के नागिरको का भगवान् ही मालिक है. मुसलमानों की सुरक्षा में तैनात किये गए जवान , मुस्लिम महिलाओ लगातार अत्याचार कर रहे है. सूचना है की म्यांमार के राखिन प्रान्त में सुरक्षाबलो ने मुस्लिम महिलाओ को अपनी हवस का शिकार बनाया है.

रोहिंग्या राइट्स आर्गेनाईजेशन के डायरेक्टर क्रिस लिवा ने मीडिया को दिए गए बयान में कहा की 19 अक्टूबर को म्यांमार के सुरक्षाबलो ने , एक ही गाँव की 30 महिलाओ के साथ बलात्कार किया. चूँकि इन इलाको में सैन्य प्रभाव अधिक होने से अन्तराष्ट्रीय मानवाधिकार संगठनों पर प्रतिबंध लगा हुआ है इसलिए इस खबर की पुष्टि नही हो पायी है.

लिवा के अनुसार 20 और 25 अक्टूबर को भी ऐसी ही घटनाओ को अंजाम दिया गया. 20 अक्टूबर को 16-18 साल की 5 लडकियों को हवस का शिकार बनाया गया वही 25 अक्टूबर को एक गाँव की दो लडकियों के साथ बलात्कार किया गया. 25 अक्टूबर को ही बर्मा ह्यूमन राइट्स कमीशन ने करीब 10 रेप के मामलो पर चिंता जाहिर की. यही नही एक 3 महीने की गर्भवती महिला के साथ भी बलात्कार किया गया जिसका बाद में गर्भपात हो गया.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें