chicken-masala_625x350_51436163569

नई दिल्ली | हिंदुस्तान में मुस्लिम ,सबसे ज्यादा गोश्त खाने वाले आबादी मानी जाती है. कुछ संगठन और राजनितिक पार्टी इसी चीज को प्रचारित कर, इस आबादी पर गौमांस खाने का भी आरोप लगाती रही है. गौमांस रखने के आरोप में दादरी में एक मुस्लिम अख़लाक़ को भीड़ ने मौत के घाट उतार दिया था. लेकिन क्या पूरे हिंदुस्तान में केवल मुस्लिम ही मांस का सेवन करते है? इसका जवाब दिया एक सर्वे ने.

2011 की जनगणना के अनुसार देश में मुस्लिमो की कुल आबादी 14.2 फीसदी है. अगर ऊपर कही गयी बातो पर यकीन करे तो देश में मांसाहार का सेवन करने वालो की आबादी भी इसी प्रतिशत के आसपास रहनी चाहिए. लेकिन आपको यह जानकार आश्चर्य होगा की इस देश की बहुत बड़ी आबादी मांसाहार का सेवन करती है. शाकाहार की बात करने वाले इस देश में , केवल एक छोटी आबादी शाकाहार का सेवन करती है.

सैंपल रजिस्ट्रेशन सिस्टम ने साल 2014 में एक सर्वे कराया. इस सर्वे में पता किया गया की देश की कितनी आबादी मांसाहार का सेवन करती है और कितनी आबादी शाकाहार का. इस सर्वे में कुछ चौकाने वाले आंकड़े आये है. सर्वे के अनुसार 14.2 फीसदी मुस्लिम आबादी वाले इस देश में 71 प्रतिशत लोग मांसाहार का सेवन करते है. जबकि केवल 28.85 लोग शाकाहार का सेवन करते है.

इस सर्वे में यह भी बताया गया की कौन से राज्य में सबसे ज्याद मांसाहारी लोग रहते है. तेलंगाना में सबसे ज्यादा मांसाहार का सेवन करने वाले लोग रहते है. यहाँ 98.7 फीसदी आबादी मांसाहार का सेवन करती है. इसके बाद नम्बर आता है पश्चिम बंगाल, उड़ीसा और केरल का. यहाँ क्रमशः 98.55 फीसदी, 97.35 फीसदी और 97 फीसदी लोग मांसाहार का सेवन करते है.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें