बहरोड़। बहरोड़ तहसील के खोहरी गांव के शिवचरण उर्फ श्योराम ने एक रिश्तेदार के कहने पर करीब 47 साल पहले दसवीं पास करने के बाद शादी करने की जिद क्या की, उसे निभाने के लिए श्योराम को उम्र के 82 बसंत बीत जाने और 46 बार फेल होने के बाद भी 10वीं कक्षा पास करने की जिद के आगे आज तक परीक्षा देनी पड़ रही है।

जी हां, 10 वीं पास कर शादी की ख्वाहिश रखने वाले खोरी गांव का 82 वर्षीय शिवचरण यादव उर्फ श्योराम दसवी बोर्ड परीक्षा में 46 बार फेल होने के बाद भी दसवीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा में 47वीं बार राजकीय उच्च माध्यमिक बहरोड़ परीक्षा केंद्र पर परीक्षा देगा।

बतौर शिवचरण व उनके गांव वासियों के वह जब दो माह का था तो उसकी मां चल बसी थी और 10 वर्ष का हुआ तो पिता का साया सिर से उठ गया। ऐसे में उसके ताऊ और रिश्तेदारों ने उसे संभाला। अपनी कुछ जमीन में खेती बाड़ी के सहारे से गुजर बसर करने लगा। इसी दौरान गांव वालों के माध्यम से शिवचरण के कई रिश्ते भी आए, लेकिन लड़की वालों ने शादी करने से पहले उसके खुदके पैरों पर खड़ा होने के लिए शिवचरण के सामने 10वीं की पढ़ाई पूरी कर लेने की शर्ते रख दी। इस बात पर शिवचरण ने ठान लिया कि अब जब तक वह 10 वीं पास नहीं कर लेगा, तब तक शादी नहीं करेगा। बस इसी बात को लेकर शिवचरण का आज से 46  साल पहले शुरू हुआ  परीक्षा देने का सिलसिला अब तक जारी है। (राजस्थान पत्रिका)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें