इंटरनेट के दुनिया में आज जहां लोग नित नए तकनीकी प्रयोग कर रहे हैं, वहीं अब अपराधी भी तकनीक के सहारे साइबर क्राइम की दुनिया में सक्रिय हैं। इसी तकनीक के सहारे एक शख्स ने नोट छापने का आइडिया चुराया और जरूरी उपकरण खरीद कर शुरू कर दिया नकली नोटों का कारोबार। लेकिन यह शख्स ने अपने आप पुलिस से बचाने में कामयाब नहीं हो सका और आखिरकार पुलिस के हत्थे चढ़ ही गया।

police-arrested-a-man-who-printed-fake-notes-31641

उत्तर प्रदेश में गोरखनाथ के हुमायूंपुर में किराये के मकान पर रहने वाले इस शातिर को पुलिस ने उसके कमरे से धर दबोचा और नकली नोट छापने की उसकी ‘टकसाल’ का पर्दाफाश कर दिया। गोरखनाथ पुलिस ने तलाशी में उसके पास से 54 हजार रुपए के नकली नोट, लैपटॉप, प्रिंटर, कटर और नोट बनाने में इस्तेमाल किए जाने वाला केमिकल भी बरामद किया है।
पकड़ा गया यह शख्स आजमगढ़ का रहने वाला है और पिछले दस साल से वह हुमायूंपुर  में रह रहा है। वह यहां होटल में वैटर का काम करता था। दिन के समय में होटल में काम करने क साथ ही पिछले करीब एक महीने से वह रात के समय में 100-100 रुपए के नकली नोट छापने का काम कर रहा था।
पुलिस के अनुसार, नकली नोट छापने का गोरखधंधा करने वाला यह शख्स आजमगढ़ मे रौनापार के इस्माइलपुर का निवासी अक्षय कुमार यादव है। पिछले एक महीने में वह करीब पांच से छह हजार रुपए के नकली नोट बाजार में चला चुका है।
पुलिस ने बताया कि मुखबिर की सूचना पर रात के समय में उसके कमरे पर छापा मारकर तलाशी में उसके बिस्तर के नीचे रखे 54 हजार 200 रुपए के नकली नोट, 100 रुपए के 43 आधे बने हुए नोट, एक लैपटॉप, एक प्रिंटर, पेपर कटर, पेन ड्राइव और अन्य उपकरण बरामद किए गए हैं। (firstindianews.com)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें